पियवा से पहिले हमार रहलू 😍

ऐ सुनों न…

याद करा जहिया कुंआर रहलू, पियवा से पहिले हमार रहलू 😍

आजकल हमने ये गाना न… गुनगुनाना छोड़ ही दिये हैं…कसम से, बाथरूम में भी नहीं गाते। हां, और हम क्यों और कितना छाती पीट पीटकर गुनगुनाये दर्द से ओवरफ्लो हो चुके इस बेदर्दी गाने को। तुम तो शादी के बाद बिल्कुल ही भूल गई हमको, काश हम भी ऐसा कुछ कर पाते। कुछो हो, फिर भी बिल्कुल सही हो तुम… बस हँसी-खुशी रहो और रखा क्या हैं जीवन में।

कबों-कबों सोचते हैं हम, काश तुम अपनी मम्मी के आगे गिड़गिड़ाते हुए ये पंक्तियां गाकर हमारे प्यार के लिए कोशिश करती…..
लेके जहारिया बैइठल बा हाथे, पगला ह कुछ करिए जाई , मम्मी रे दोसरा से शादी न करब , यार हमार मरिये जाई मम्मी रे दोसरा से शादी ना करब , मजनुआ हमार मरिये जाई
Mom If Marry Another, Then My Lover Will Be Die….

पता हैं, आज हम तुम्हारे हबी का प्रोफ़ाइल चेक कर रहे थे। अरे वहीं, आपके पति-परमेस्सर मिस्टर फालना कुमार जी। तुमको भी बहुत ही सर्च किये थे फ़ेसबुक पर और आज-अभी भी यदा कदा फ़ेसबुक से लेकर इंस्टाग्राम और गूगल तक में खोजते फिरते हैं, पर तुम ससुरी पता नहीं धरती के कौना स्थल पर किस पुरानी सी सदी में गुम हो।

याद हैं, तुम गणित और विज्ञान विषय में कितनी अच्छी थी। हमेशा मुझसे ज्यादा मार्क्स स्कोर करती थीं तुम मैडम। और…और…और तुम्हारे हैंडराइटिंग के तोह हम फैन रहे थे… फैन। उस गणित की किताब पर तुम्हारे द्वारा लिखा मेरा नाम आज भी हूबहू विद्यमान हैं। हम तो सपना भी देखे थे कि हमारी सुपर टैलेंटेड मैडम कउड़ी(Marie Skłodowska Curie) बड़का बड़का रिसर्च करके अपने संगे हमरा भी नाम रोशन करेगी। इतनी टैलेंटेड…इतनी टैलेंटेड…काश तुम हमरी होती रानी, साला गूगल में ट्रेंडिंग करवाते तुमको। ट्रेंडिंग समझती हो न जानेमान❤️

अरे वही यूट्यूब पर जो आता हैं ट्रेडिंग वीडियो, और ट्विटर में भी हैशटैग(#) के साथ।

अब देखो तो हमहूँ कइसन-कइसन बात बतिया रहे हैं तुमसे। तुम तो जानती ही हो कि हम बिल्कुल कैसे थे जब तुमसे मिले थे, एकदम सरकारी स्कूल टाइप और तुम इंग्लिश मीडियम कॉन्वेंट स्कूल में पढ़ी लिखी। फिर भी तुमने हमको एक्सेप्ट किया… और सिर्फ एक्सेप्ट ही नही बल्कि जो भी छोटी-मोटी और खोटी ऊँच- नीच युक्त समथिंग-नथिंग रह गई थी मुझमें। तुमने अपनी कसम-वसंम, वास्ता-रिश्ता वाली फिल्टर्स देकर छुटवा दी थी। फ़ॉर एक्सएम्पल बीड़ी-सिगरेट फूंकना, हुक्के से छल्ले उड़ाना, खैनी रगड़ना, तास की गड्डी फेंटना, हड़िया-महुआ पीना etc-etc।

पता हैं, तुमने हमको लजाना सीखाया था। तुम्हारी वो शरारती आंखे, हर मुस्कान संग गालों पर उभरता पहाड़ और गर्त की उच्चावच को मेरी आँखे बंद होने के बाद आज भी महसूस करती हैं। तुम्हारी एक झलक पाने के लिए शनिवार-रविवार की कई शाम तुम्हारे घर के सामने से सायकिल की परिक्रमा करवाई थी हमने। पता हैं, तुम स्कूल नहीं आते तो बैचैनी सी होती थी हमको। अब भी विश्वास हो नहीं पा रहा कि तेरे बिना हम जी ले रहे हैं।

ई देखों, हम क्या-क्या बक के तुमको सैड फ़ील करवा दिये। विद्या कसम खाई के कहते हैं, ऐसा मेरा कोउनो इरादा नहीं है। तुम खूब खुशी खुशी रहो, यही कामना हम सुबह से लेकर शांझ तक अपने भोले बाबा और काली माई से करते हैं।

हाँ, तो हम कह रहे थे। तुम्हारे हब्बू ने काफी दिनों के बाद अपने फेसबुक प्रोफाइल में कवर फोटो चेंज किया हैं। शायद तुमलोग कहीं घूमने गए थे, होगा कोई वाटरफॉल-झरना शायद। अच्छा तुम कभी बताई नही कि तुम्हारे तीन नन्हें-नन्हें क्यूट से बच्चे हो गए। फोटुआ में तुम्हारा बड़का बेटवा कुरकुरे का पैकेट ले खड़ा होकर मुस्कुरा रहा हैं, बिटिया को तुम्हारे हब्बू ने गोदी में उठाया हुआ हैं और तुमने सबसे छोटे वाले को। हमसे तो कह रही थीं कि सिर्फ़ दुई गो बच्चा करोगी, एक बाबू और दूसरी गुड़िया। धत्त हम भी पागल जैसा हक जता रहे हैं तुमपर।

लाल साड़ी, खुले बाल, मांग में सिंदूर, हाथों में कंगन और चेहरे पर वहीं पुरानी वाली मुस्कान। सच्ची में, दिन बन गया। अच्छा एक बात बताना, बच्चा लोग का नाम क्या रखें हो..? बेटी बिल्कुल तुम्हारे पर गई हैं, नाक देखा हैं तुमने। नाक देखों, और आंखे भी ❤️

अच्छा, लास्ट में एक बात बताना… तुम्हारे बच्चे लोग भी तो तुम्हारे टाइप से सड़क को सरक और स्कूल को इस्कूल कहते हैं क्या😉😂😂😂❕

माफ करना, यदि हर्ट किया हो तो। और हाँ अगला जन्म यदि हुआ, तो प्रीबुकिंग हो तुम मेरी। अबकी बार किसी की नहीं सुनेगें, तुम्हारे अमरीश पुरी टाइप के मोछू बाबू जी की भी नहीं। चलो अब अगले पत्र में आगे की बाते लिखेंगे। ये चिठ्ठी पत्री का सिलसिला जारी भी तो रखना है…. और उम्मीद हैं….कि तुम्हारा जवाब आएगा। और हां, अबतक हमने शादी नहीं की है, कोई तुम्हारी टाइप की ज़ेरॉक्स मिले या नजर में हो तो बताना।

लव यू फॉरएवर..❤️💕

तुम थी तो सिरी समथिंग था,

तुम्हारे बिना अब मिस्टर नथिंग बन चुका हूँ।

तुम्हारा मजनुआ,

–––––––——–

————————————————–

© पवन Belala Says 2018

————––——–––––––—————–

यदि आपको हमारी यह रचना पसंद हैं, तो 9798942727 पर कम से कम ₹1 का सहयोग Paytm करे।

Advertisements

15 thoughts on “पियवा से पहिले हमार रहलू 😍

  1. waah ……Pawan ji Lajwab lekhan……….apnaapan bhare shabdon men bahut kuchh parosh diya hai…..hamen bhi kuchh samajh men aaya jo likh raha hun shayad apko pasand aaye……

    एक इग्लिश माध्यम से पढ़ी लिखी लड़की,
    जिसके योग्यता को देख मंत्रमुग्ध थे हम,
    जिसकी बातें जिसकी आखों में गुम थे हम,
    आज वही कहीं वह गुम हो गयी है,
    सोंचता था खोजने में मुश्किल ना होगी,
    इतना उम्मीद था जिसपर,
    चाँद तारों सी चमकेगी एक दिन,
    इतना गुरुर था जिसपर,
    आज वही कहीं वह गुम हो गयी है,
    आज वही कहीं वह गुम हो गयी है|
    अचानक वर्षों बाद इंटरनेट पर मिली,
    मिली भी तो संग में थे तीन बच्चे
    आँखों में मानो सपने सिसकते,
    शादी जो कर ली है |
    चूड़ी,सिंदूर,लाल साडी,बच्चे और पति,
    सबकुछ तो हैं संग में,
    मगर इंग्लिश में चटर-बटर करनेवाली,
    जिसकी बातें जिसके मुश्कान आज भी,
    आँखों के सामने है वो नहीं है,
    आज कहीं वह गुम हो गयी है,
    आज कहीं वह गुम हो गयी है,
    शादी जो कर ली है|
    नॉट- ऐसा सबके साथ नहीं होता मगर एक के साथ भी ऐसा होता है फिर कहानी तो बन ही जातीं है|

    Liked by 1 person

    1. ❤️❤️❤️❤️❤️❤️💕
      Bahut bahut dhanyawad Sir itni sarahana aur pyaar k liye…🙏😇
      बिल्कुल आपने अपनी पंक्तियों के माध्यम से सारी कहानी को बड़ी खूबसूरती से पिरोया।
      असंख्य धन्यवाद

      Liked by 2 people

  2. Pawan bhaiya padh ke na ajeeb sa dard hua …Khair saccha pyaar Amar hain..
    Asha hin Ishwar kare aapko jirox mil Jaye ..ameen…
    Parhke bada Acha laga Mera nanihaal arah me Hain..par humlog Mera janm Delhi me hua..papa Ka Naukri yahi Hain na..jate Hain..hum bui nanihaal..

    Liked by 1 person

  3. क्षमा चाहता हूँ मित्र की कहानी पर थोड़ी देर से पहुंचा | जमीनी क्षेत्र से जुड़ा हुआ लेखन सदैव मुझे आकर्षित करता है और आपने तो उसमे श्रृंगार मिलाकर इसे और भी उन्नत कर दिया है | अंतिम वाक्यों में जो आपने लिखा है “और हाँ अगला जन्म यदि हुआ, तो प्रीबुकिंग हो तुम मेरी।” , रोमांचित करने वाली लाइन है | ऐसे सधे हुए लेखन के लिए साधुवाद | प्रेमी की मनोदशा और उसके त्याग का सटीक वर्णन | ऐसे ही लिखते रहें |

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s