विदाई का दर्द और सूनापन : रिवाज के विभिन्न रंग (Felling Heart broken and alone at Durga Pandal)

Sakali Tomari Ichha
Iccha-Mayi Tara Tumi
Tomar Karma Tumi Karo Ma
Loke Bale Kari Ami….

Wishing everyone Shubho #Vijayadashmi
आसुरी शक्तियों के पराजय के महापर्व ‘विजयदशमी’ के शुभ अवसर पर हार्दिक शुभकामनाएँ।

झूठछल,पर-स्त्री पर कुदृष्टि,अहंकार और अधर्म की राह पर चलने वालों का अंत रावण जैसा होना अवश्यम्भावी है।
जय श्री राम 🙏

पवन Belala Says❣

पंडाल वाले साउंड बॉक्स पर दुर्गा अमृतवाणी का पाठ अनुराधा पौडवाल जी कर रही हैं..! विभिन्न अंतराल में भोजपुरी, बंगला और हिंदी वाले देवी भजन बज रहे हैं..! लाइट वाले धीरे धीरे सामान समेटने की तैयारी कर रहे हैं..! मिठाई, Ice-cream,  बादाम, गोलगप्पा वाले भाई लोग अंतिम दिन का चांदी काटने के लिए रामलीला मैदान का रूख कर रहे हैं |जहाँ शाम को रावण दहन का भव्य आयोजन होने वाला हैं | पंडित जी मंत्रोचारण के संग माँ की आराधना में लीन हैं..! दीपक निस्वार्थ भाव से अबतक जल रहा हैं..और प्रकाशमय कमरे में अपने अस्तित्व के लिए बल्ब की रोशनी से दो चार हाथ करने का मन बना रहा हैं !
महिलाओं का एक बड़ा समूह माँ के विदाई हेतु उपस्तिथ हैं, जिनके हाथों मे पूजा की थाली हैं। कुछ भाभियों के संग छोटे बच्चे हैं जो बच्चे को अपनी ननद के हवाले की हुई हैं। बुआ के गोदी मे…

View original post 613 more words

Advertisements

5 thoughts on “विदाई का दर्द और सूनापन : रिवाज के विभिन्न रंग (Felling Heart broken and alone at Durga Pandal)

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s