रावण Laughing@दशहरा

#hehahaha….  
खुश तो बहुत हो रहे होंगे साल दर साल मेरी बड़ी- बड़ी पुतलो को आग लगा कर के…फूंक के !
कितना प्रदूषण करते हो…
वायु, ध्वनि से लेकर आकाश तक के निर्मलता को दूषित कर देते हो… 


जिस पाप की सजा मे, मैं हर साल जल रहा हूँ..! 
जो  अब तुम्हारे यहाँ fashion सा हो चूका हैं…!
नारी को भोग की वस्तु मानकर खूब अपहरण करो, खूब बलात्कार करो…
और दशहरे पर मेरी बड़ी बड़ी पुतले बना के जलाओ…!
जैसे जैसे महिलाओ के प्रति अपराध बढ़ रहा है, मैं भी बढ़ रहा हूँ..!
मेरे पुतले भी बढ़ रहे हैं…!
करते रहो दिखावा
फूंकते रहो मेरे पुतले

#hehahahaha  
चलो मेरे तरफ से भी
#happy_दशहरा
अगले साल और बड़ा पुतला बनाना.. 


 

Advertisements

6 thoughts on “रावण Laughing@दशहरा

  1. Bilkul sahi Pawan ji………jitne rawan badh rahe hain kad rawan ke putle ka utna hi badh raha hai……..ek taraf ham dikhawe men apne sansaar ko vinash ki wor le jaa rahe hain aur dusri wor khud rawan ban sansaar ko vinaaas ki wor dhakel rahe hain………kitna hasyaspad hai naa………
    kaliyugi rawan bhi rawan ka putla jalaate rahte hain……..

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s