वसंत आया


आज मनुष्य का प्रकृति से रिश्ता टूट गया है। वसंत ऋतु का आना अब अनुभव करने के बजाय कैलेंडर की तारीखों से जाना जाता है। जनवरी-फ़रवरी के तोतलेबाजी में अमावास्या, एकादशी और पूर्णिमा के सामान कई विशेष दिन, माह और ऋतु हमारे लिए महत्वविहीन से हो चले हैं। दादा नाना के पञ्चाङ्ग को हमारे मोबाइल ने घर से बाहर का रास्ता दिखाया हैं। ऋतुओं में … Continue reading वसंत आया