Sticky post

इश्क की गाथा इतिहास बन जाये।


हवा में कल वाली बात नहीं सुहाने लम्हों का आज साथ नहीं गजलों में हकीकतों का हिसाब नहीं परवाह करने वाले ही जब पराये हो फिर सावन-भादों में भी बूंदो की प्यास नहीं। मुसाफिरों सी टकराहट हुई थी होठों पर हंसी की मिलावट हुई थी दोस्ती की रूह पर, भरोसे की सजावट हुई थी मोहब्बत, पाकीजा, दीवानगी, सादगी, हुस्न, कशिश, दिलकश, हया, इबादत… जाने कितने … Continue reading इश्क की गाथा इतिहास बन जाये।

मनाही हैं !


कई साल बीते, कुछ महीने छूटे, सप्ताह-दिनों की तो आनी जानी हैं। जीवन के उस अधूरे हिस्से में आज भी, सबके आने की मनाही हैं। सावन-भादो सब बीत गया, होठों पे मुस्कान बेमानी हैं। आम पीपल सब ठूंठ हो गए, नदी रेत से मांगे पानी हैं। सिसकतीं ख्वाइशे, तन्हाई और रुसवाई में, चर्चाओं का चनाचूर गरम हैं। महफ़िलो में सुकून-ए-दिल भी बेंच, रात की आहटों … Continue reading मनाही हैं !

मामा होने और मामा बनने में व्याप्त फर्क… ?


इश्क़ ने ‘ग़ालिब’ निकम्मा कर दिया वर्ना हम भी आदमी थे काम के… –मिर्ज़ा ग़ालिब हे…प्रेम, इश्क़, मोहब्बत, प्रीत-सम्मोह, चाह-प्रणय पर दोहे, कविता, ग़ज़ल और गीत की किताब छापने वाले देवियो और सज्जनों, आपके ध्वनि, गुणीभूत व्यंग्य और चित्र युक्त मुक्तक पद्य जिस प्रेम परीक्षा में सब्जेक्टली फ़ैल होने के उपरांत उत्पन्न पक्ष के वर्णन में असफल रहे हैं। उसे सरितवा और मंजुआ के लिए … Continue reading मामा होने और मामा बनने में व्याप्त फर्क… ?

तू लौंग मैं इलाइची ❤️


जानती हो, बहुत गुस्सा आता हैं आजकल हमको। बहुत… मतलब बहुत…बहुत ही ज्यादा। तुम्हारे विरह के आग में सुलग सुलग कर धधकते मन को करता हैं कि ससुरी बेवफ़ा जमाने को फूक दे और फिर खुद को भी। कुछ याद भी हैं तुमको, आज पूरे 12 महीने हो गए गपियाये…यानी पूरे1वर्ष। लास्ट वो पिछली ईद पर मुबारकबाद दी थी मैंने और तुमने मेरे लिए स्पेशल … Continue reading तू लौंग मैं इलाइची ❤️

लव यू फगुनिया 💓


डिअर फगुनिया, उमस भरी आजकल की लौ वोल्टेज रातों में करवटे दाएं से बाएं और बाएं से दाएं बदलते हुए रात बिताने वाला, तुम्हारे इस इश्क़फिरे गुलाम की ओर से सुबह की गुड़ वाली मॉर्निंग, दोपहर में हैप्पी वाली आफ्टरनून और शाम को कूल वाली इवनिंग स्वीकार करो देवी । बाकी गुड नाईट और स्वीट ड्रीम रतिया को हम व्हाट्सएप पर बतिया लेंगे। और तुम … Continue reading लव यू फगुनिया 💓

Reply from her: मैने तो हाँ कर ली 😍


Hi पवन जी, पिछले दिनों तुम्हारे अनेकों पत्र मुझे मिले, जिन्हें पढ़कर चेहरे पर मुस्कान व दिल का AC इस गर्मी में 22℃ पर ऑन हो गया। कई बार सोचती हूँ कि फ़ेसबुक और व्हाट्सएप पर दो लाइन के I Love You से 143 तक पहुंच चुके प्रेम के शॉर्टकट्स युग में ऐसी लंबी-चौड़ी प्रेम पत्रिका लिखने वाले में जरूर कुछ ख़ास बात होगी। पता … Continue reading Reply from her: मैने तो हाँ कर ली 😍

ऐई हमारी आलिया भट्ट…😍


ऐई हमारी आलिया भट्ट, कैसे हो रे, तुम…? आज पूरा एक हफ्ता हो गया, हम दोनों के बतियाये। तुम ही तो लड़ाई-झगड़ा करके बातें नहीं करने का कसम दी थी। फ़ॉर योर काइंड इन्फॉर्मेशन, हम ई कसम-वसंम को रत्ती भर मानते नहीं, बस वो तुम्हारे प्यार के वास्ता के कारण अपना हाल खास्ता करके खामोश बैठें हैं। हाँ, माना कि हमसे अतिउत्साहित होकर, उस शाम … Continue reading ऐई हमारी आलिया भट्ट…😍

मेरे ❤️ के 📲 की जिओ सिम…को प्रेम📝😍


Hi मेरे दिल की ड्राइवर, कैसा हैं मेला बच्चा ? क्या खाया मेले सोना बाबू ने ? बाबा भोले भंडारी की कृपा से बस सुबह-शाम तुम्हारे बारे में सोच-सोचकर जी रहे हैं डियर। अजी सुनो न, तुम्हें हद से बहुत ही ज्यादा मिस कर-करके न जी, फ़ेसबुक पर देखा नहीं… केतना अलोन फ़ील कर रहे हैं आजकल। अच्छा एक बात बताओ…तुम अपने हाथों से बना … Continue reading मेरे ❤️ के 📲 की जिओ सिम…को प्रेम📝😍

तेरे शहर में प्यार की कदर क्यों नहीं हैं..?


गर्म-ठंडी फिजाओं में नफरतों की बदबू, जहरीली-बड़ी घूरती आंखे, चक्षुओं में उभरा रक्तसंचार, चेहरे पर बदले की लकीरें, घर उजाड़ने की तकरीरें, बैचैनी संग चेतावनी, सभ्यता-संस्कृति की राग-दुहाई, जाति धर्म की घेराबंदी, प्रेमी-युगलों पर नाकाबंदी, और, हमारे प्यार के गर्मागर्म चर्चे..! एक बात बताना हमें प्रियवर… यहां की शब्दों में इतनी जहर क्यों हैं..? तेरे शहर में प्यार की कदर क्यों नहीं हैं..? ––––––––––––––––––––––––––––––– ©पवन … Continue reading तेरे शहर में प्यार की कदर क्यों नहीं हैं..?

मेरी π को मेरा पत्र 💓


Dear π, तुम्हारे बिना जिंदगी जंजाल सी हो गई हैं। राते करवटे बदलते बिताते हैं और दोपहर खर्राटों के संग। इधर गर्मियों में डिग्री सेंटीग्रेट डेली अपना वैट गेन कर रही हैं। इस जिंदगी के मेले में नाना प्रकार का झमेला हैं। अब देखों न, कल तुम्हारे बारे में मम्मी से बात कर रहे थे। हम तुम्हारे शुभ नाम का उच्चारण किये ही थे कि … Continue reading मेरी π को मेरा पत्र 💓

Let’s celebrate चप्पलियाँ डे 👡


हमारे भारत जैसे विकाशील सोच वाले देश में, प्यार करना काफी मुश्किल हैं और प्यार में अपने प्रेमी संग एक खूबसूरत छायायुक्त घोसला स्थापित करना लगभग असंभव सा। आर्ट्स और कॉमर्स वाले तो फिर भी जी लेते हैं, किंतु विज्ञान से साइंस में एडमिशन लिये अधिकांश क्रांतिकारी गबरू जवान प्रेमपाश के इस केमेस्ट्री में Below 33% जैसे दर्दनाक मार्क्स के साथ पीटने के बाद मुँह … Continue reading Let’s celebrate चप्पलियाँ डे 👡