Sticky post

चुनावी सर्दी में दलित बजरंगबली


“बजरंगबली एक ऐसे लोक देवता हैं, जो स्वयं वनवासी हैं, निवासी हैं, दलित हैं, वंचित हैं. भारतीय समुदाय को उत्तर से लेके दक्षिण तक, पूरब से पश्चिम तक, सबको जोड़ने का काम बजरंगबली करते हैं।” उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी द्वारा अलवर जिले के मालाखेड़ा की एक चुनावी रैली में बड़बोले बयान के बाद सोशल मीडिया पर भूकंप और मुख्यधारा की मीडिया में सुनामी … Continue reading चुनावी सर्दी में दलित बजरंगबली

देश को चाय वाला प्रधानमंत्री क्यो नहीं चाहिए ?


जब कोई शौक, आदत बन रोजमर्रा की जरुरत का स्थान ग्रहण कर ले फिर ये बड़ी हानि पहुँचाती है। देश के सबसे बड़े भाई, नरेन्दर जी द्वारा देशी और अंतराष्ट्रीय सार्वजनिक मंचो से वर्णित चायवालों की ग़रीबी और पिछड़ेपन की गाथा से प्रभावित होकर भारतियों ने चाय संग कुछ तगड़ी किस्म वाली जुड़ाव स्थापित किया हैं। नुकसान-फायदे से इतर कुछ भक्त, भक्ति में रम कर … Continue reading देश को चाय वाला प्रधानमंत्री क्यो नहीं चाहिए ?

My First Vote for Silli


मरणासन्न अवस्था में पहुंच कर नाम मात्र में बचें, लोकतंत्र व लोकतांत्रिक व्यवस्था पर जब भी अवसर प्राप्त हो… उंगली करना जरूरी हैं। ऐसा उंगली कीजिए कि तथाकथित राजनैतिक महत्वाकांक्षी ठेकेदारों के मुँह से खून और झाग साथ साथ निकल पड़े। क्योंकि हम-आप जैसे आम नागरिक प्रत्येक 5 वर्ष के अंतराल में एकबार उंगली ही कर सकते हैं। मुर्गा-मुर्गी, खस्सी-दारू, गहरा गुलाबी यानि मैजेंटा(₹2000) और … Continue reading My First Vote for Silli

प्यारे सिल्ली विधानसभा वासियों….


प्यारे सिल्ली विधानसभा वासियों, सादर प्रणाम साढ़े तीन वर्ष उपरांत, एक बार फिर कल हम… हमारे गांव-घर से एक प्रतिनिधि चुनकर इस उपचुनाव में विधानसभा भेजने जा रहे हैं। ग़रीब व उनकी गरीबी, बेरोजगारी, अशिक्षा, संसाधनों का बंदरबांट, हड़िया-दारू व गुटखा-तम्बाकू के नशे में मदहोश युवा, प्रखंड(ब्लॉक) से ग्राम पंचायत स्तर पर जकड़ी भर्ष्टाचार की गहरी जड़ें से लेकर और कितने कारण है आपके समक्ष … Continue reading प्यारे सिल्ली विधानसभा वासियों….

Rape Statistics & Misuse of Social Media in India


सोशल मीडिया विशेषतः फ़ेसबुक व ट्विटर पर आजकल सोशल नेटवर्किंग साइट्स से पीएचडी में भी गोल्ड मेडलिस्ट हुए तथाकथित बुद्धिजीवियों ने अजीबोगरीब दुर्गंध युक्त रायता फैला रखा हैं। मेरा होम पेज पिछले हफ़्ते-पंद्रह दिनों से जम्मू कश्मीर की कठुआ घटना के जस्टिस फ़ॉर आशिफ़ा के पोस्टरों-निर्मम तस्वीरों से, 2012 के निर्भया कांड के बाद एक बार फिर भरा पड़ा हैं। लाइक, कमेंट और शेयर के … Continue reading Rape Statistics & Misuse of Social Media in India

हम पैसे लेकर एजेंडा चलाते हैं…!


यहां पैसे लेकर हिन्दू-मुस्लिम, स्वर्ण-दलित, बीजेपी-कांग्रेस के एजेंडे चलाये जाते हैं। #नोट: हमारे राष्ट्रभक्ति-देशद्रोही के क्रेस कोर्स में अभी दाखिला ले और पाए upto 50% तक का आरक्षण😋। यदि आपके आसपास किसी बहन-बेटी का बलात्कार होता हैं, तो ऐसी घटनाओं को भगवा, हरा या नीला रंग में रंगकर हिन्दू, मुस्लिम या दलित एजेंडा बनाने के लिए निशुल्क संपर्क करें। भारत के विभिन्न गांव-शहरों से हमारी … Continue reading हम पैसे लेकर एजेंडा चलाते हैं…!

बहु-बेटियों की दर्द-कराह और नफरती चिंगारी


काल-कोठरी में जिओ से 1.5GB इंटरनेट के दमपर, कई कर रहे फुफकार हैं। सोशल साइट्स पर अजीबोगरीब आज, मेरे देश का हाल-चाल हैं। कैंडल लेकर निकल चुकी गैंग से, पुरस्कार वापसी का इंतजार हैं। बहु-बेटियों की दर्द-कराह से, देश में मातम युक्त सिसकियों का अलाप हैं। निर्भया की आत्मनिर्भरता, सुबक-सुबकर कर रही चीत्कार-पुकार हैं। सियासत के गिद्ध वोटों के खातिर, रच रहे षड्यंत्र का जाल … Continue reading बहु-बेटियों की दर्द-कराह और नफरती चिंगारी

इंडिया का तोह कुछ भी नही हो सकता…


“इंडिया का तोह कुछ भी नही हो सकता” बिल्कुल सही सोचते हैं आप जनाब। मैं आपके हारकर गिरफ़्तार हुए क्रांतिकारी मन के दर्द को लिखने की आज कोशिश कर रहा हूँ, जो शायद मेरे जैसा एकलौता बकवास लेखक ही कर सकता हैं । खुद को भारतीय कह संबोधित करे या फिर इंडियन अथवा हिंदुस्तानी, इसको लेकर आलरेडी इतना कंफ्यूज़न होने के वाबजूद हम कितना प्यार … Continue reading इंडिया का तोह कुछ भी नही हो सकता…

देश को कर्क रोग(cancer) से बचाये !


क्षमा शोभती उस भुजंग को
जिसके पास गरल हो
उसको क्या जो दंतहीन
विषरहित, विनीत, सरल हो। Continue reading देश को कर्क रोग(cancer) से बचाये !