मौत से ठन गई…


२०वी शताब्दी के अंतिम दशक में पले-बड़े युवाओं ने राष्ट्पति के रूप में कलाम और प्रधानमंत्री के रूप में वाजपेयी जी के दिव्य नेतृत्व में भारतीय राजनीति का स्वर्ण काल जीया हैं। हमारे झारखण्ड राज्य के गठन कर्ता शिल्पकार अटल जी के प्रति, हम झारखंडियों में अपार श्रद्धा हैं। राजधानी दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) में भर्ती पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न श्री अटल बिहारी … Continue reading मौत से ठन गई…

श्री रामचन्द्र कृपालु भजुमन…गोस्वामी तुलसीदासः


श्री रामचन्द्र कृपालु भजुमन हरण भवभय दारुणं । नव कंज लोचन कंज मुख कर कंज पद कंजारुणं ॥१॥ कन्दर्प अगणित अमित छवि नव नील नीरद सुन्दरं । पटपीत मानहुँ तडित रुचि शुचि नोमि जनक सुतावरं ॥२॥ भजु दीनबन्धु दिनेश दानव दैत्य वंश निकन्दनं । रघुनन्द आनन्द कन्द कोशल चन्द दशरथ नन्दनं ॥३॥ शिर मुकुट कुंडल तिलक चारु उदारु अङ्ग विभूषणं । आजानु भुज शर चाप … Continue reading श्री रामचन्द्र कृपालु भजुमन…गोस्वामी तुलसीदासः

छठ की छटा मुबारक हो


वर्षपर्यंत कितने त्यौहार आते हैं, और कब चले जाते हैं, कई बार महसूस भी नहीं हो पाता सिवाय छुट्टियों के। किन्तु छठ की छटा को शब्दों से बांधना लगभग मेरे लिए असंभव प्रतीत होता हैं। “आँखों से नींद गायब, घाट जाने की उत्सुकता, यूट्यूब में शारदा सिन्हा जी को सुनकर इमोशनल होना और कई बार पुराने चलचित्रों में उलझकर नेत्रों को डबडबाने से भी नहीं … Continue reading छठ की छटा मुबारक हो

Sticky post

नारी नहीं, मर्दानी थी, स्वतंत्रता की चिंगारी थी |


हम सभी के जीवन-पुस्तिका के प्रत्येक पन्नो को अपनी भिन्न-भिन्न इंद्रधनुषी भूमिकाओं द्वारा रंगने वाली नारियों को अंतराष्ट्रीय महिला दिवस पर असंख्य साधुवाद संग शुभकानाएं। नारी नहीं, मर्दानी थी, स्वतंत्रता की चिंगारी थी | देश के लिए यज्ञ-वेदी में आहुति देने वाली, ये भारतीय महिला स्वतंत्रता सेनानी थी | यह प्रारंभ नही, यह अंत नही, युग-युगांतर के गौरवगाथा की महारानी थी | पार्वती, सीता, उर्मिला, … Continue reading नारी नहीं, मर्दानी थी, स्वतंत्रता की चिंगारी थी |

Sculptural art related to stories of Lord Ganesha Ji


श्री वक्रतुण्ड महाकाय सूर्य कोटी समप्रभा, निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्व-कार्येशु सर्वदा॥ The Sodosha (sixteen) Ganapati Puja is a unique event to be held at Koraput, Odisha. 16 rupas of Ganesha are presented and worshipped for 21 days. The event takes place once in 11 years. All Pictures are captured from The Sodosha (sixteen) Ganapati Puja Pandal. © Pawan Belala   Continue reading Sculptural art related to stories of Lord Ganesha Ji

16 rupas of Lord Ganesha


श्री वक्रतुण्ड महाकाय सूर्य कोटी समप्रभा,  निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्व-कार्येशु सर्वदा॥ The Sodosha (sixteen) Ganapati Puja is an unique event to be held at Koraput, Odisha. 16 rupas of Ganesha are presented and worshipped for 21 days. The event takes place once in 11 years. इस वर्ष के गणपति बप्पा के १६ स्वरूपों के दर्शन का शौभाग्य मिला। गदगद मन से आप पाठको संग … Continue reading 16 rupas of Lord Ganesha